…अब हारी तो `खिसक’ जाएगी भाजपा!

नई दिल्ली| फूलपुर से लेकर गोरखपुर तक में भाजपा को मिली शिकस्त के बाद पांच और उपचुनाव के लिए जंग की शुरुआत होने जा रही है। इस बार अहम यह रहेगा कि 282 सीटों से सिमटकर 274 पर पहुंची भाजपा को यदि इन चुनाव में पटखनी मिलती है तो न सिर्फ लोकसभा में साधारण बहुमत से वह नीचे खिसक जाएगी, बल्कि विजयरथ पर सवार सत्ताधारी दल के कार्यकर्ताओं का मनोबल भी धरातल पर आ जाएगा।

वहीं उपचुनाव में लगातार मिल रही हार के बाद विपक्ष की पार्टियां भी आक्रामक रुख के साथ जनता में यह संदेश देने की कोशिश करेंगी कि भाजपा की वायदा खिलाफ से देशभर में भाजपा विरोध की लहर दौड़ रही है।

उल्लेखनीय है कि जल्द ही पांच सीटों पर उपचुनाव की तारीखों की घोषणा चुनाव आयेाग कर सकता है। जिन पांच जगह चुनाव होने हैं उनमें से तीन सीटों पर 2014 में भाजपा प्रत्याशियों ने जीत हासिल की थी। यह सीटें हैं पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कैराना, महाराष्ट्र की पालघर और भंडारा गोदिया हैं। इसमें सबसे दिलचस्प मुकाबला कैराना में होने की उम्मीद लगाई जा रही है।

दरसअल, बदले हुए चुनावी समीकरण के बीच यह सीट जीतना भी भाजपा के लिए बड़ी चुनौती साबित होने जा रहा है। भाजपा रणनीतिकार भी मानते हैं कि कैराना का उपचुनाव भाजपा के विकास, भ्रष्टाचार और विचारधारा की लड़ाई के बजाय जातीय समीकरण और ध्रुवीकरण की जंग पर आधारित होगा।

(अन्य वेबसाइट्स से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *