कलेक्टरों को उलटा टांग दूंगा… शिवराज जी ये आपकी हताशा और अक्षमता है!

लगातार 13 साल तक मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज शिवराजसिंह चौहान का ताजा बयान चर्चा में है, जिसमें उन्होंने जिला कलेक्टरों को उलटा टांग देने और कलेक्टरी भुला देने की चेतावनी दी है… वैसे तो नौकरशाह भी दूध के धुले नहीं हैं, मगर उन पर लगाम की जिम्मेदारी तो अंतत: मुखिया यानि मुख्यमंत्री की ही है… इतने साल तक मुख्यमंत्री रहने के बावजूद अगर शिवराज जी आप नौकेरशाहों को ही कंट्रोल नहीं कर सके तो इसमें आप ही की हताशा और अक्षमता जाहिर होती है… राजा-महाराजा तो चले गए और उनकी जगह नौकरशाहों ने ले ली… सामंती व्यवहार से लेकर भ्रष्टाचार के मामलों में नौकरशाह कठघरे में खड़े रहते आए हैं और इसकी जिम्मेदार भ्रष्ट राजनीति भी है, जो ऐसे ही कठपुतली नौकरशाहों को पसंद करने लगी है… सैंकड़ों उदाहरण मिल जाएंगे कि ईमानदार नौकरशाहों के साथ सत्ता ने कितना क्रूर व्यवहार किया और उन्हें लूप लाइनों में पटक डाला… शिवराज जी आपको भी दबंग और ईमानदार नौकरशाहों की जरूरत कम ही रही है… अपने मंत्रियों या जनप्रतिनिधियों को ठिकाने लगाने के लिए ऐसे नौकरशाहों को तवज्जो मिलती रही है… मगर जनता की समस्याएं हल न करने वाले अधिकांश नौकरशाह आपके राज में मलाई सूतते रहे… जिस चरण वंदना करने वाले कलेक्टर को चुनाव आयोग ने हटाया था, वह सालों से आपका प्रिय नौकरशाह है… अधिकांश जिलों में कलेक्टरों से लेकर अन्य प्रमुख अफसरोंं की पोस्टिंग किस तरह होती है और उसमें आपके ही परिवार के लोगों का कितना हस्तक्षेप रहता है यह जगजाहिर है… आपके लगातार विजयी रहने का एक बड़ा कारण तो जोरदार किस्मत और दूसरा नकारा और निकम्मे विपक्ष का होना रहा है… देशभर में पप्पू साबित कांग्रेस मध्यप्रदेश में तो अत्यंत लूटी-पीटी रही है, जिसके चलते व्यापमं से लेकर रेत खनन और अन्य तमाम घोटालों के बावजूद आपका बाल बांका नहीं हुआ… अब कलेक्टरों पर कपड़े फाडऩे से कुछ नहीं होगा, क्योंकि नौकरशाहों को बिगाडऩे का श्रेय भी आप ही को जाता है… आपके ही कार्यकाल में कई जिलों में प्रमोटी कलेक्टरों की पदस्थापना हुई और अगले साल के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भी प्रमोटियों की पौं बारह रहेगी… जनता का सवाल तो सीधा और सपाट-सा है कि 13 साल तक मुख्यमंत्री रहने के बाद उनकी मूलभूत समस्याएं क्यों हल नहीं हुई और रोजाना किसानों को आत्महत्या क्यों करना पड़ रही है और असल में उलटा टंगने लायक कौन है..?

(राजेश ज्वेल)
9827020830

(लेखक परिचय : इंदौर के सांध्य दैनिक अग्निबाण में विशेष संवाददाता के रूप में कार्यरत् और 30 साल से हिन्दी पत्रकारिता में संलग्न एवं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के साथ सोशल मीडिया पर भी लगातार सक्रिय)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *