राष्ट्रपति चुनाव ऐसा भी… गालियां तक देने लगे!

पेरिस|

फ्रांस राष्ट्रपति के आखिरी चरण के चुनाव रविवार को होने हैं, लेकिन प्रत्याशियों के बीच जुबानी जंग बेहद निचले स्तर पर पहुंच गई है। बुधवार को टीवी पर प्रेसिडेंसियल डिबेट के दौरान घोऱ दक्षिणपंथी नेता मरीन ली पेन और मध्यमार्गीय नेता इमैनुएल मैक्रोन ने एक-दूसरे की जमकर फजीहत की।

फ्रांस की अर्थव्यवस्था और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को लेकर दोनों ने एक-दूसरे पर निजी हमले किए। करीब अढाई घंटे की बहस के दौरान दोनों के बीच गालीगलौज तक की नौबत आ गई।

बनाएं खबरों से हर पल का वास्ता (CLICK HERE) लाइक करें हमारा फेसबुक पेज facebook.com/khabarbaannews

फ्रांस के इतिहास में पहली बार राष्ट्रपति चुनाव में बहस इतने निचले स्तर पर पहुंची है। यह पहला मौका था, जब मरीन और इमैनुएल ने नैतिकता की सारी सीमाएं लांघ दी।

इमैनुएल ने ली पेन को नौसिखिया, भ्रष्टाचारी, खतरनाक राष्ट्रवादी और नफरत फैलाने वाली करार दिया। उन्होंने कहा कि ली मरीन ने फ्रांस को गरीबी में धकेल दिया, जिसके चलते यहां बेरोजगारी बढ़ी है और गृह युद्ध के हालात पैदा हो गए हैं।

वहीं, जवाबी हमला बोलते मरीन ने फ्रांस के पूर्व वित्तमंत्री इमैनुएल को घमंडी, नाकाम, गुस्सैल और बनावटी हँसी हँसने वाला बैंकर करार दिया। उन्होंने इमैनुएल पर इस्लामवादियों से सांठगांठ करने और आतंकवाद को बढ़ावा देने का भी आरोप जड़ा।

मरीन ने कहा कि इमैनुएल का मकसद फ्रांस को बर्बाद करना है।इस दौरान दोनों एक-दूसरे पर फ्रांस की जनता को गुमराह करने का आरोप लगाते रहे। बहस में देश की अर्थव्यवस्था, आतंकवाद के अलावा युरोप, रूस और अमेरिका के साथ रिश्तों को लेकर चर्चा की गई।

राष्ट्रपति चुनाव के पहले यह आखिरी टीवी बहस थी, जिसमें दोनों प्रत्याशियों के पास अपनी बात को जनता के सामने रखने का अंतिम मौका था। इस बहस के सर्वे में हिस्सा लेने वाले 63 फीसदी लोगों का कहना है कि मरीन के मुकाबले इमैनुएल अपनी बात को जनता तक पहुंचाने में ज्यादा सफल रहे।

फ्रांस राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल घोर दक्षिणपंथी मरीन ली पेन आतंकवाद के खिलाफ सख्त कदम उठाने की घोषणा कर चुकी हैं। उन्होंने फ्रांस में मुस्जिदों को बंद करवाने का भी ऐलान किया है।

मरीन का अमरीकी नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी समर्थन किया है। अगर मरीन जीतती हैं, तो वह फ्रांस की पहली महिला राष्ट्रपति होंगी। वह 2012 के चुनाव में तीसरे नंबर पर रह चुकी हैं. वहीं, रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने इमैनुएल का समर्थन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *