PAN और TAN… अब एक ही दिन में ले लो

नई दिल्ली|

व्यापार में आसानी और सुधार के लिए सीबीडीटी ने कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के साथ करार किया है, जिसके बाद अब PAN और TAN (टैक्स डिडक्शन एकांउट नंबर) एक ही दिन में जारी होगा।

टैक्स वसूलने और टैक्स कलेक्शन को सही तरीके से मैनेज करने के लिए आयकर विभाग की ओर से हर इंडीविजुअल के लिए पैन और टैन कार्ड नंबर जारी किए जाते हैं। ये कार्ड किसी इंडीविजुअल, कंपनी और ट्रस्ट के लिए भी जारी किए जाते हैं।

बनाएं खबरों से हर पल का वास्ता (CLICK HERE) लाइक करें हमारा फेसबुक पेज facebook.com/khabarbaannews

यह जानना जरूरी…

आयकर विभाग करदाताओं की पहचान उनके स्थायी खाता संख्या यानी कि (PAN) से करता है। PAN एक 10 अंकों वाली alpha numeric संख्या होती है। PAN हमेशा के लिए एक ही बार प्राप्त होता है।

अगर करदाता का किसी अन्य जगह ट्रांस्फर होता है तो नए PAN कार्ड की आवश्यकता नहीं होती। यह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट जारी करता है। यह एक बेसिक डॉक्यूमेंट है जिसके जरिए कई तरह की सुविधाएं पा सकते है।

यह लोगों की वित्तीय लेन-देन में पारदर्शिता और उन पर नजर बनाए रखने के लिए जरूरी माना जाता है। यह इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए भी जरूरी होता है। घर में बिजली, पानी, गैस का कनेक्शन लेने के लिए, वाहन खरीदने आदि के लिए काम आता है।

इसे भी जान लो

TAN नंबर पैन नंबर की ही तरह 10 डिजिट का एक नंबर होता है। इस कार्ड को ऐसे सभी व्यक्तियों को प्राप्त करना आवश्यक है, जो आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 203ए के अंतर्गत कर काटने या संग्रहण करने के लिए उत्तरदायी हैं। सभी टीडीएस विवरणियों में आयकर विभाग (आईटीडी) की ओर से आबंटित कर कटौती खाता संख्या (टैन) का उल्लेख करना अनिवार्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *