शिवराज जी ये 580 करोड़ रुपए जनता भुगतेगी

किसी प्रदेश का विपक्ष किस कदर हाशिये पर पड़ा हो सकता है इसका सबसे बड़ा उदाहरण मध्यप्रदेश है… 14 साल के भाजपा राज में 14 हजार से अधिक बड़ी गलतियां सरकार ने की होगी, मगर विपक्ष के पप्पू होने के चलते सत्ता पक्ष न सिर्फ मलाई सूतता रहा, बल्कि हर चुनाव में सफलता उसके कदम चूमती रही… यही कारण है कि मध्यप्रदेश भाजपा के मुगालते 7वें आसमान पर जा पहुंचे… मुख्यमंत्री के रूप में ही खुद को किसान बताने वाले शिवराजसिंह चौहान के लगभग 13 साल पूरे हो गए हैं और अमूमन रोजाना एक किसान उनके राज में आत्महत्या कर रहा है… अभी बड़ी शान से विधानसभा में राज्य सरकार ने प्याज खरीदी में हुए 580 करोड़ रुपए के नुकसान को स्वीकार किया… यह पैसा किसी मुख्यमंत्री, मंत्री या विधायक अथवा अफसर की जेब से तो खर्च नहीं हुआ, बल्कि प्रदेश की जनता के खून-पसीने की कमाई है, जो वह टैक्स के रूप में जमा करती है… यह पहला मौका नहीं है जब सरकारी पैसे की इस तरह बर्बादी की गई हो… पिछली बार भी प्याज खरीदी के नाम पर करोड़ों रुपए फिजूल में खर्च किए गए और इस बार तो पूरी सरकारी मशीनरी खपा दी गई… यह मामला अगर बिहार, उत्तरप्रदेश या दिल्ली राज्य का होता तो 24 घंटे जंगलराज से लेकर 5-10 करोड़ रुपए की सरकारी बर्बादी पर छाती-माथा कूटने वाले न्यूज चैनल दिनभर इसका राग अलापते और विपक्षी पार्टियां भी खूब राजनीतिक रोटियां सेंकती… केजरीवाल सरकार होती तो सब पटक-पटककर धोते, मगर 580 करोड़ रुपए की बर्बादी स्वीकार करने वाली सरकार के खिलाफ कहीं कोई आवाज नहीं है… नर्मदा यात्रा पर भी इसी तरह 500 करोड़ रुपए शिवराज सरकार ने फूंक डाले और मीडिया से लेकर देश की जनता को पाई-पाई का हिसाब देने की घोषणा करने वाले मोदी जी तक खामोश हैं… शिवराज जी, आप तो मजे करो और ऐसे कई 580 करोड़ रुपए का चूना लगाओ… प्रदेश की जनता है ही आपकी पार्टी की बंधक, जो भुगतती रहेगी…

(राजेश ज्वेल)
9827020830

(लेखक परिचय : इंदौर के सांध्य दैनिक अग्निबाण में विशेष संवाददाता के रूप में कार्यरत् और 30 साल से हिन्दी पत्रकारिता में संलग्न एवं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के साथ सोशल मीडिया पर भी लगातार सक्रिय)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *