व्यापमं घोटाले की आरोपी का हावर्ड में चयन! करेगी कैंसर पर रिसर्च

इंदौर|
मध्यप्रदेश के बहुचर्चित व्यापमं महाघोटाले को उजागर करने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले इंदौर के ही डॉ. आनंद राय ने आरोप लगाया है कि इस घोटाले की आरोपी रही पाखी बिड़ला और उनके पिता मुकेश बिड़ला ने पहले जहां अपने सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक संंबंधों के बलबूते पर मामला दबा दिया, वहीं अब मीडिया मैनेजमेंट करते हुए एक प्रमुख समाचार-पत्र में अपनी बेटी की खबर प्रमुखता से छपवा ली। जहां एक ओर 2012, 2013 बैच के गरीब बच्चे और उनके माँ-बाप जेल की सलाखों के पीछे पहुंचे, वही रसूख के चलते 2011 बैच की आरोपी पाखी बिड़ला को उन 634 छात्रों में शामिल थी जिन्हें सुप्रीमकोर्ट ने MBBS कोर्स से बाहर करने के आदेश दिए थे लेकिन इनके विरुद्ध कोई FIR नही हुई। CBI से मांग की है कि 2008, 2009, 2010, 2011 बैच के 433 छात्रों के विरुद्ध FIR हो और उन्हें भी जेल भेजा जाए, चूंकि पाखी के पिता पैसेवाले है इसीलिए GRE और अमेरिकन यूनिवर्सिटी का खर्च उठा लेंगे लेकिन सैकड़ो छात्र इस घोटाले के कारण रोड पर आ गए। डॉ. राय ने उक्त आरोप पाखी बिड़ला के हॉवर्ड युनिवर्सिटी के हॉवर्ड मेडिकल स्कूल में हुए चयन के आधार पर प्रमुखता से प्रकाशित खबर के बाद लगाए हैं। इसके सबूत में उन्होंने कुछ दस्तावेज भी सोशल मीडिया पर जाहिर किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *